अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में युवक की पीट-पीट कर हत्या, सोशल मीडिया पर मचा बवाल

Courtesy: India Today
अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब को अपवित्र करने की कोशिश करने वाले एक युवक की कथित रूप से पीट-पीट कर हत्या करने के बाद 2017 में तत्कालीन भाजपा-शिअद गठबंधन की बेअदबी की घटना फिर से सुर्खियों में आ गई है।

अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में कथित तौर पर उत्तर प्रदेश के रहने वाले युवक ने प्रतिबंधित क्षेत्र में प्रवेश किया और गुरु ग्रंथ साहिब के सामने रखी तलवार को उठाने की कोशिश की। उसे सुरक्षाकर्मियों ने पकड़ लिया और उसे शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) कार्यालय को सौंप दिया गया, जहां उसकी पीट-पीटकर हत्या कर दी गई।

अमृतसर के पुलिस उपायुक्त परमिंदर सिंह भंडाल ने बताया कि, युवक की उम्र लगभग 20-25 की थी और वो घेरे को कूदकर अंदर आया था । अंदर के लोगों ने उसे पकड़ लिया और गलियारे में ले गए, जहां एक हिंसक विवाद हुआ, जिससे उसकी मौत हो गई।

गौरतलब है कि करीब 60 दिनों में यह दूसरी घटना है जब अभद्रता के आरोपी को भीड़ ने मार डाला। इससे पहले अक्टूबर में, निहंग सिखों के एक समूह द्वारा कथित तौर पर बेअदबी के आरोप में दिल्ली के सिंघू सीमा पर एक 35 वर्षीय व्यक्ति लखबीर सिंह की हत्या कर दी गई थी। यह घटना तीन कृषि कानूनों के विरोध के दौरान हुई थी।

घटना का एक वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो रहा है जिसमें रेहरास साहिब पथ के दौरान एक व्यक्ति को रेलिंग पर कूदते देखा जा सकता है। गुरु ग्रंथ साहिब के पास आरक्षित क्षेत्र में रखी तलवार को उसने उठा लिया। अज्ञात लोगों के लिए, स्वर्ण मंदिर में आरक्षित क्षेत्र केवल ग्रंथी सिखों के लिए खुला है।

यहाँ भी पढ़ें: गोवा मुक्ति दिवस: 40 घंटे से भी कम समय में गोवा को 450 साल के पुर्तगाली शासन से मुक्त कराया गया

घटना के बाद शिरोमणि अकाली दल के प्रकाश सिंह बादल ने घटना की निंदा की और इसे बेहद चौंकाने वाला और दर्दनाक बताया। उन्होंने यह भी ट्वीट किया कि अपराध शब्दों के लिए बहुत निंदनीय है और इसने पूरी दुनिया में सिख जनता के मन में गहरी पीड़ा और आक्रोश पैदा किया है।

इस जघन्य घटना ने सोशल मीडिया पर एक बड़ा तूफान खड़ा कर दिया है, जिसमें लोग मामले की जांच और मृतक के लिए न्याय की मांग कर रहे हैं। एक यूजर ने नरेंद्र मोदी सरकार पर तंज कसते हुए लिखा कि भारत में पिछले 7-8 सालों में लिंचिंग की संस्कृति सामान्य हो गई है।

प्रतिक्रिया देखें:-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here