ट्रैक्टर रैली हिंसा: हमारे लोगों की रिहाई होने तक नहीं होगी बातचीत- राकेश टिकैत

पीएम नरेंद्र मोदी ने किसान आंदोलन पर कहा था कि बातचीत से समाधान निकलेगा। लेकीन प्रदर्शकारी किसान नेता राजेश टिकैत का  कहना है कि पहले किसानों पर लगे मुकदमे वापस हों, गिरफ्तार किसानों को रिहा किया जाए, उसके बाद ही आगे की बातचीत संभव होगी।

दरअसल गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसात्मक घटनाओं को लेकर दर्जनों किसान नेताओं पर मुकदमे दर्ज हो चुके हैं।  हिंसा मामले की जांच में पुलिस ने अबतक कुल 38 एफआईआर दर्ज कर 84 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। वीडियो, फोटो और सीसीटीवी फुटेज के आधार में पुलिस ने कई लोगों की पहचान की है और उनकी तलाश में पुलिस छापेमारी भी कर रही है।

सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा, ‘नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों से जो कहा, उसे हम दोहराना चाहते हैं। हमने कहा कि हम आम सहमति तक नहीं पहुंच रहे हैं, लेकिन हम आपको प्रस्ताव दे रहे हैं और आप (किसान) विमर्श कर सकते हैं। मैं सिर्फ एक फोन कॉल की दूरी पर हूं। सरकार का प्रस्ताव अब भी वही है। कृपया इसे अपने अनुयायियों तक पहुंचाएं। इसका समाधान बातचीत के जरिए ही निकलेगा। हम सभी को राष्ट्र के बारे में सोचना होगा।’

पीएम के बयान पर किसान नेता राकेश टिकैत ने पलटवार करते हुए कहा कि दबाव में कोई समझौता नहीं होगा।हम इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे, प्रधानमंत्री भी हमारे हैं, हम उनकी पहल के लिए आभारी हैं, हम इसका सम्मान करेंगे। हम चाहते हैं कि हमारे लोग रिहा हों। हमारे जो लोग जेल में बंद हैं वो रिहा हो जाएं फिर बातचीत होगी। प्रधानमंत्री ने पहल की है और सरकार और हमारे बीच की एक कड़ी बनी है। किसान की पगड़ी का भी सम्मान रहेगा और देश के प्रधानमंत्री का भी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here