इंसानों की पुरानी यादें अब नए शरीर में हो सकती है ट्रांसफर, जानें कैसे?

विज्ञान की वजह से असंभव लगने वाली कई चीजें भी संभव हो गई हैं। विज्ञान की प्रगति के साथ-साथ मनुष्य भी तेजी से प्रगति कर रहा है। इस लिस्ट में विज्ञान की वजह से एक और चमत्कार होने जा रहा है। दुनिया के मशहूर बिजनेसमैन Elon Musk ब्रेन-कंप्यूटर इंटरफेस टेक्नोलॉजी पर काम कर रहे हैं। इंसानों पर इसका परीक्षण करने के लिए वे एक कदम और आगे बढ़ गए हैं।

एलोन मस्क के न्यूरोटेक स्टार्टअप न्यूरालिंक ने क्लिनिकल ट्रायल डायरेक्टर के लिए एक नौकरी पोस्ट की है। इसका मतलब है कि न्यूरालिंक ब्रेन-चिप अनुसंधान को अगले चरण में ले जाने के लिए पूरी तरह तैयार है। एलोन मस्क के स्टार्टअप ने यह ट्रायल पहले ही सूअरों और बंदरों पर किया है। इस ट्रायल में एक 9 साल के बंदर को एक चिप लगी हुई थी, जिसकी वजह से वह अपने दिमाग से ही वीडियो गेम खेल पाता था।

यहाँ भी पढ़ें: राष्ट्रीय बालिका दिवस 2022: मानुषी छिल्लर ने लॉन्च किया चैट सीरीज़ लिमिटलेस

Elon Musk का यह स्टार्टअप टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके ह्यूमन-एआई सिम्बायोसिस बनाने की कोशिश कर रहा है। मस्क ने पिछले महीने कहा था कि 2022 में इंसानों पर इसका ट्रायल शुरू हो जाएगा। इससे जुड़ी एक बड़ी जानकारी यह भी है कि इसमें लकवा से पीड़ित लोगों को भी शामिल किया जा सकता है। इससे कंप्यूटर कर्सर का सीधा तंत्रिका नियंत्रण हासिल करने का प्रयास किया जा सकता है।

यह भी महत्वपूर्ण है कि जिस पद के लिए यह ज्वाइनिंग की जा रही है, उसमें कहा गया है कि यह पद उस उम्मीदवार के लिए होगा जो इस मिशन को समझता है और आगे बढ़ने के लिए उत्सुक है। नैदानिक ​​परीक्षण निदेशक को सबसे नवीन डॉक्टरों और इंजीनियरों के साथ काम करना होगा।

यहाँ भी पढ़ें: https://en.wikipedia.org/wiki/Elon_Musk

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here