Home लाइफस्टाइल Mauni Amavasya 2021: धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, जाने विशेष महत्व।

Mauni Amavasya 2021: धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, जाने विशेष महत्व।

मौनी अमावस्या
Image Courtesy: The Public

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार आज मौनी अमावस्या मनाई जा रही है। यूं तो साल में पड़ने वाली प्रत्येक अमावस्या शुभ होती है। परंतु माघ मास में पड़ने वाली अमावस्या अत्यंत शुभकारी मानी जाती है। शास्त्रों में मौनी अमावस्या का विशेष महत्व बताया गया है। माघ महीने के कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली अमावस्या को मौनी अमावस्या(अमावस), माघ अमावस्या और थाई अमावसाई भी कहा जाता है। मौनी अमावस्या के दिन भगवान विष्णु के साथ पीपल के पेड़ की पूजा की जाती है। महायोग में पवित्र नदियों में स्नान करना चाहिए और पितरों की पूजा करनी चाहिए। माघ मास के सभी स्नान पर्वों में मौनी अमावस्या धार्मिक, आध्यात्मिक रूप से भी महत्वपूर्ण है।

अमावस्या का शुभ मुहूर्त-

फरवरी 11, 2021 को 01:10:48 से अमावस्या आरम्भ।
फरवरी 12, 2021 को 00:37:12 पर अमावस्या समाप्त।

महासंयोग

विद्वानों का मानना है कि गुरुवार के दिन अमावस तिथि पड़ने से इसका महत्व और भी अधिक हो गया है। इस दिन ध्वज योग रहेगा, जिसमें पूजा-पाठ और स्नान-दान करने से सम्मान व स्वास्थ्य में बरकत मिलने की मान्यता है। मौनी अमावस्या के दिन श्रवण नक्षत्र में चंद्रमा के साथ छह ग्रह मकर राशि में एक साथ विराजमान हो रहे है। जिसके कारण महासंयोग का निर्माण होगा। इस शुभ संयोग को महोदय योग कहते है।

अमावस्या पर दान का महत्व

ज्योतिषाचार्य अमित बहोरे के अनुसार, मौनी अमावस्या पर गौ दान, तिल के लड्डू, तिल का तेल, वस्त्र, आंवला, गर्म वस्त्र का दान उत्तम है। अमावस्या पर पितरों का पिंडदान करना चाहिए।

मौन रहने का महत्व

इस दिन मौन रहने का चलन है। कहते हैं मौन धारण करने के बाद व्रत का समापन करने से मुनि पद की प्राप्ति होती है। इस दिन मौन रहने का मतलब है मन को संयमित रखना। इससे आपका आत्मबल बढ़ जाता है।

पूजा विधि

सबसे पहले गंगा में या घर पर ही पानी में गंगाजल डालकर स्नान करें।
विष्णु जी का ध्यान, पूजा करें।
इस दिन व्रत रखकर जहां तक संभव हो मौन रहना चाहिए।
पूजा के बाद दान दें। गाय, कुत्ता और कौए अन्न खिलाए।
इस मंत्र का जाप करते रहें। – गंगे च यमुने चैव गोदावरि सरस्वति। नर्मदे सिन्धु कावेरि जलऽस्मिन्सन्निधिं कुरु।।

ये भी पढ़ें- आंदोलनकारी किसानों ने की घोषणा, 18 फरवरी को होगा ‘रेल रोको’ अभियान

Exit mobile version