दहेज प्रथा पर बात करने वाले पाकिस्तानी डिज़ाइनर पर आखिर क्यों फूटा लोगो का गुस्सा

पाकिस्तानी डिजाइनर अली जीशान
Image Courtesy: Jang.Com

महिलाओं के शोषण का एक प्रतीक दहेज प्रथा उन सामाजिक कुरीतियों में से एक है जो आज भी बदस्तूर जारी है। इसी के खिलाफ अमेरिका में रहने वाले फैशन डिजाइनर अली जीशान ने पाकिस्तानी महिला के साथ टाइअप कर दहेज प्रथा की सच्चाई लोगों के सामने रखी जिसकी तस्वीर उन्होंने सोशल मीडिया पर शेयर की। लेकिन सोशल मीडिया पर दहेज के खिलाफ जागरुकता फैलाने का दावा करने वाली तस्वीर विवादों में घिर गई है।

दरअसल पाकिस्तानी डिजाइनर अली जीशान के लेटेस्ट में जो थीम रखा वो वायरल हो रहा है। ब्राइडल कलेक्शन को पिछले हफ्ते लाहौर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान पेश किया गया था। उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक तस्वीर शेयर की। वायरल तस्वीर में लाल रंग के जोड़े में दुल्हन के मां बाप और दुल्हन पर पड़ने वाले दहेज के बोझ को दिखाया गया है। दुल्हन एक ठेलागाड़ी को खींचने की कोशिश कर रही है जबकि दूल्हे के लिबास में घरेलू सामान के साथ युवक ठेलागाड़ी पर बैठा है।
ट्वीटर पर जारी पोस्ट में दहेज के खिलाफ कई हैशटैग जैसे – नुमाइश न लगाओ, दहेज की लालच बंद करो, दहेज खोरी बंद करो का इस्तेमाल किया गया है। युवाओं को दहेज के खिलाफ संकल्प लेने का आह्वान करते हुए पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा संख्या में शेयर करने को कहा गया है।

पाकिस्तान में वायरल इस मुहिम का असल मक़सद लड़के वालों की ओर से दहेज लेने की प्रथा के बारे में जागरुकता फैलाना था। चेतना पैदा करना और दहेज देने की प्रथा को एक नकारात्मक चीज़ के तौर पर दिखाना है।
तस्वीर सामने आने के बाद सोशल मीडिया यूज़र का गुस्सा भड़क उठा। उनका कहना था कि ये तस्वीर शादी के लिबास को डिजाइन करने वाले महंगे डिजाइनर की है। उसके ज़रिए दहेज जैसी कुरीति को खत्म करने का संदेश देना हास्यास्पद है।

ये भी पढ़ें- पश्चिम बंगाल में भाजपा लाएगी असल परिवर्तन – जेपी नड्डा